भारतीय हस्तकला और उपहार मेला, सौ देशों से ज्यादा के उमड़े हजारों खरीदार

handi craft mela
नई दिल्ली (19 अक्तूबर2015) भारतीय हस्तकला और उपहार मेला (आईएचजीएफ) की ओर से ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट के तहत आयोजित 40वें दिल्ली मेले का सोमवार समाप्त हो गया। मेले में दो हजार सात सौ करोड़ रूपये का कारोबार हुआ। आईएचजीएफ के कार्यकारी निदेशक राकेश कुमार ने जानकारी दी- ‘भारत का हस्तकला क्षेत्र दुनिया का सबसे बड़ा हस्तकला मेला है, इस मेले में गृह, जीवनशैली और फैशन उत्पादों के साथ घरेलू फुटकर विक्रेताओं, एजेंट और अंतर्राष्ट्रीय खरीदारों के रूप में 7,300 व्यापारिक भागीदारों ने शिरकत की।’
1994 में शुरू हुआ यह मेला 5,500 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला है और इसमें 313 आयोजकों ने अपनी हिस्सा लिया । ग्रेटर नोएडा में हुए आईएचजीएफ के दिल्ली मेले का यह 40वां सत्र रहा। मेले में 1,600 उत्पादों और आधुनिक जीवनशैली का प्रदर्शन किया गया। मेले में 110 से ज्यादा देशों के खरीदारों ने पारंपरिक भारतीय कला और शिल्पकारी का लुत्फ उठाया। इस मौके पर रंगारंग नृत्य के कार्यक्रम से माहौल में भारतीय कला और संस्कृति की झलक दिखाई दी। मेले में ऑस्ट्रेलिया और आसियान सहित अफ्रीकी देशों की मीडिया की भागीदारी रही जिनमें वियतनाम, कंबोडिया, ट्यूनीशिया, मिस्र और सेनेगल की मीडिया को भी आमंत्रित किया गया था। मेले में 1,600 किस्म के उत्पादों को प्रस्तुत किया गया था जिनमें रसोई, मेकअप, घर की सजावट, जन्मदिन और शादी समारोह के मौके पर इस्तेमाल होने वाली सामग्री, फैशन, ज्वैलरी, बैग, टाई, चमड़े के उत्पाद, फर्नीचर, हार्डवेयर, मशीनों के कलपुर्जे, कालीन, बाथरूम में इस्तेमाल होने वाली सामग्री, सुगंधित उत्पाद, स्टेशनरी, बिजली के सामान, सजावटी सामान और शिक्षापरक खेलों और खिलौनों को बेहद आकर्षक ढंग से प्रदर्शित किया गया था

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *