नेत्रदान एक अंधेरे जीवन में ज्योति

donate eyes in indaor
इंदौर (8 सिंतबर 2015)- इंसान को दुनियां के रचियता का दिया हुआ सबसे बड़ा उपहार हैं आंखें । थोड़ी देर के लिए भी भी अगर आंखें बंद हो जाएं तो किसी भी इंसान की दुनियां एकदम काली हो जाती है। अगर आंखें ना होती तो हमारा जीवन कैसा होता । नेत्रदान को प्रोत्साहन देने के लिए इंदौर के श्री क्लाथ कन्या विद्यालय में चल रहे नेत्रदान पखवाडे के अन्तिम चरण में नेत्रदान संकल्प और चेतना व्याख्यान विषय पर बोलते हुए एमके इंटरनेश्नल आई बैंक की निदेशक उमा झंवर ने अपने विचार पेश किये ।
उन्होने नेत्रदान क्यों और कैसे विषय पर बोलते हुए व्याख्यान पेश किया । उन्होंने आंखों की सुरक्षा और रोशनी के बारे में कार्यक्रम में मौजूद छात्राओं को विस्तृत जानकारी दी । कार्यक्रम का संयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना की स्वपोषित इकाई के तहत डा .संगीता माहेश्वरी ने किया । इस अवसर पर डा. सरिता मूंदड़ा,डा. हेमा मिश्रा,डा साधना.झाजरी,डा. अर्पणा बनिक,डा. सुनीता तोतला, सहित बड़ी तादाद में छात्राएं मौजूद थीं।

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *