बीजेपी नेता को जान का ख़तरा-सरकार पर आरोप लगाते हुए राज्यपाल से गुहार

??????????
ग़ाज़ियाबाद(20अगस्त2015)- गाजियाबाद बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा के महानगर अध्यक्ष रिज़वान अहमद को आजकल अपनी जान का ख़तरा है। उन्होने उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार में कथित तौर पर बेक़ाबू डाकुओं और अपराधियों और ख़ुद के जंगलो और प्रदेश भर की यात्राओं के दौरान अपने ऊपर जानलेवा हमले की आशंका ज़ाहिर की है।
एसएसपी गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और राज्यपाल महोदय को चिठ्ठी लिख चुके रिज़वान अहमद का आरोप है कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था चौपट है और पुलिस अपराधियों को काबू करने में नाकाम है। साथ ही साल 2010 से 2012 के दौरान थानों में दर्ज कई मामलों में वादी होने के कारण उन पर जानलेवा हमलों की आशंका बनी रहती है। ऐसे में उनको गनर की सख़्त ज़रूरत है। लेकिन स्थानीय प्रशासन समेत मुख्यमंत्री कार्यालय तक ने उनकी अभी तक कोई मदद नहीं है।
गौरतलब है कि अकेले गाजियाबाद में कई लोगों की सुरक्षा में कई कई पुलिस वाले बंदूक ताने उनके आगे पीछे रात दिन फिरते रहते हैं। ये अलग बात है कि आम जनता अपनी सुरक्षा के लिए पुलिस की मदद को तरसती रहती है। सबसे दिलचस्प बात ये है कि कई कई पुलिस वालों की घेरे में रहने वाले कुछ तो ऐसे हैं जिनके बारे में शायद सुरक्षा करने वाले सिपाहियों को समझ नहीं आता होगा कि उनकी सुरक्षा किससे करनी है और क्यों। जबकि कई ऐसे भी हैं जिनके पीछे कुछ दिनों पहले तक पुलिस थी और आज पुलिस उनकी हिफ़ाज़त को बेचैन है। बहरहाल हाइकोर्ट समेत अदालत पहले ही सुरक्षा के नाम पर पुलिसकर्मियों की बंदरबांट पर नाराज़गी का इज़हार कर चुकी है। ऐसे मे जनता के अधिकारों और उसकी सुरक्षा के नाम पर कथिततौर पर कुर्ते का कलफ चमकाने वालों को अपनी सियासत चमकाने के लिए जिस तेज़ी से सुरक्षा कर्मियों की ज़रूरत महसूस हो रही है। उससे तो लगता यही है कि जनता को राम भरोसे और नेता जी पुलिस भरोसे।

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *